फास्टरिप्ले

जब संजय गांधी ने इंदिरा गांधी को मारा थप्पड़….!!!

जब संजय गांधी ने इंदिरा गांधी को मारा थप्पड़….!!!

गांधी-नेहरू परिवार का सबसे विवादित चेहरा…. एक वक्त था जब उसके नाम से भारतीय राजनीति कांपती थी. देश में आपातकाल और नसबंदी कार्यक्रम में उनकी भूमिका काफी विवादास्पद रही. जी हां हम बात कर रहे हैं देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बेटे और देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के भाई संजय गांधी […]

Continue reading
जल प्रलय की वो घटना सच्ची थी…?

जल प्रलय की वो घटना सच्ची थी…?

मान्यता है कि जल प्रलय के बाद मनु ही धरती पर शेष बचे थे और उन्हीं से सारी सृष्टी खासकर  मानव जाति का विस्तार हुआ. मनु के समय़ में जिस प्रलय की जिक्र हमारे पुराणों में मिलता है…वह विश्व की दूसरी सभ्यताओं में भी मिलता है.कहते हैं उस वक्त धरती जल प्रलय के कारण पानी में डूब […]

Continue reading
सियासी गदहा !

सियासी गदहा !

यूपी चुनाव में गधों की चर्चा छिड़ी तो ये ख्याल आया… दस साल पहले ये कविताएं ‘आजकल’ में प्रकाशित हुई थीं…आज यूपी के चुनावी मैदान में जब सियासत की जंगल बुक के पन्ने खुले तो सोचा क्यों न इसे शुभचिंतकों को फिर से पढ़ा ही दूं…!!! चूंकि उसके सींग नहीं हुए इसलिए उसका नाम गदहा […]

Continue reading
क्या है पद्मावती की पहेली ?

क्या है पद्मावती की पहेली ?

जयपुर में संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती की शूटिंग के दौरान राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं द्वारा सेट में तोड़फोड़ और भंसाली के साथ मारपीट के बाद एक बार फिर देश में एक बहस छिड़ गई है… क्या किसी को मनोरंजन के नाम पर एतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ का हक है…क्या किसी को किसी […]

Continue reading
“सबसे बड़ा होगा हमारे मौन का धमाका”

“सबसे बड़ा होगा हमारे मौन का धमाका”

‘फैलेगा-फैलेगा हमारा मौन… समुद्र के पानी में नमक की तरह… नसों में दौड़ते रक्त में घुलता हुआ पहुंचेगा दिल की धड़कनों के बहुत समीप….और बोरी से रिसते आटे सा, देगा हमारा पता… हमारे मौन के धमाके से बड़ा उस वक्त कोई धमाका नहीं होगा. (मशहूर कश्मीरी कवि डॉ शशि शेखर तोशखानी की कविता की चंद […]

Continue reading
SP में संग्राम का सूत्रधार कौन ?

SP में संग्राम का सूत्रधार कौन ?

यूपी में चुनाव सिर पर हैं, सभी पार्टियां चुनावी तैयारी में जुटी हैं मगर सत्ताधारी समाजवादी पार्टी में चल रहा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. नौबत ये आ गई है कि पार्टी दो खेमें में बंट गई है और पार्टी के चुनाव चिन्ह को लेकर जंग छिड़ी हुई है. अब गैंद चुनाव […]

Continue reading
20 जनवरी के बाद बदल जाएगी दुनिया ?

20 जनवरी के बाद बदल जाएगी दुनिया ?

आज विश्व जब एक नए साल में प्रवेश कर रहा है तब 20 जनवरी के बाद का डर भी मुंह बाए खड़ा है. ये डर किसी प्राकृतिक आपदा का नहीं बल्कि अमेरिका की कमान एक ऐसे शख्स के हाथ में जाने का है जो अपने खास विचारों के लिए जाना जाता है. इस डर की […]

Continue reading
आयकर क़ानून में बदलाव का सच ?

आयकर क़ानून में बदलाव का सच ?

डि-मोनेटाइजेशन पर आर्थिक नहीं राजनीतिक आधार पर नुस्ख ढूंढ़ने वालों ने तब आसमान सर पर उठा लिया जब सरकार ने आयकर क़ानून में बदलाव का प्रस्ताव रखा। काले धन वालों को एक मौका और क्यों, काले धन वालों से सांठगांठ, काले धन वालों का दबाव, यही करना था तो देश को लाइन में क्यों लगाया […]

Continue reading
नोटबंदी या मजाक ?

नोटबंदी या मजाक ?

देश के साथ ऐसा मजाक नहीं किया जा सकता है। और ऐसा एक शासक अपनी जनता से करे यह तो कतई अक्षम्य है। मोदी जी का भ्रष्टाचार के सामने ये समर्पण है। कहां तो कहा गया था कि नोटबंदी से आतंकवाद खत्म होगा। फर्जी नोटों की कब्र खुदेगी और भ्रष्टाचार की जड़ पर चोट होगी। […]

Continue reading
सुनो योगी…..

सुनो योगी…..

सुनो योगी ज़िन्दगी इस पार्क का एक भरपूर चक्कर है तीन नहीं, तीन अरब किलोमीटर का चक्कर मैं घूमती हूँ पृथ्वी के आलिंगन में सूर्य के चारों तरफ सात समन्दरों से भी गहरी और विस्तृत झील तुम्हारे खयालों की सीढियां उतरती हूँ योगी रौशनी इतनी जैसे आँखें जल उठी हों सब कुछ रोशन योगी तुम्हारी […]

Continue reading
करेंसी का करंट !

करेंसी का करंट !

(तस्वीर – साभार http://indianexpress.com/) संसद की स्थिति बड़ी हास्यास्पद बनी हुई है। जहाँ संसद न चलने से उसकी व्यवस्था पर होने वाला भारी खर्च बर्बाद हो जाता है, वहीं स्पीकर नोटबंदी पर लोकसभा में चर्चा के लिये अनुमति प्रदान करने के बाद भी पक्ष व विपक्ष दोनों चर्चा के लिए तैयार है, फिर भी चर्चा न […]

Continue reading
लोकतंत्र की चिता सजाने की तैयारी !

लोकतंत्र की चिता सजाने की तैयारी !

पिछले तीन दिनों के भीतर तीन बड़ी घटनाएं तीन अलग-अलग सूबों में हुई हैं। भोपाल में सिमी सदस्यों का फर्जी एनकाउंटर। दिल्ली में पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल की खुदकुशी और उसके विरोध से निपटने का पुलिस का तानाशाही रवैया। और लखनऊ में मानवाधिकार कार्यकर्ता राजीव यादव पर बर्बर पुलिसिया हमला। तीनों घटनाएं अलग-अलग होते […]

Continue reading
BLIND TRUST & LOST FRIENDSHIP WITH RAMU

BLIND TRUST & LOST FRIENDSHIP WITH RAMU

When I was a student of class XII one day in our Jr.College notice board there was a Circular asking for students to volunteer as ‘Exam Writers’ for a bunch of blind students who were re-appearing for their exams in October. I immediately enrolled myself along with few of my classmates and that following Sunday […]

Continue reading
मुलायम सिंह की ‘सेहत’ खराब

मुलायम सिंह की ‘सेहत’ खराब

जमीन खराब हो तो कहते हैं बड़ा पेड़ हल्की आंधी में भी गिर जाता है। छितनार पेड़ चारो खाने चित हो जाता है। ठीक वही हाल इन दिनों समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव का है। तभी तो मुलायम सिंह यादव को खुद को संभालने के लिए कहना पड़ा कि वो मजबूत हैं। मुलायम […]

Continue reading
अखिलेश के ‘आडवाणी’ बनेंगे मुलायम?

अखिलेश के ‘आडवाणी’ बनेंगे मुलायम?

समाजवादी पार्टी के झगड़े का अंजाम अब चाहे जो कुछ भी हो, लेकिन अखिलेश यादव अब अपने पिता मुलायम सिंह यादव की राजनीति के ‘बरगद वृक्ष’ के तले दबे नहीं रहेंगे।राजनीति में और ख़ासकर उत्तर प्रदेश की राजनीति में भविष्यवाणी बेहद जोख़िम भरा काम है, लेकिन मेरी समझ कहती है कि अखिलेश ने गेमचेंजर चाल […]

Continue reading
कूटनीति के राउंड टू में मोदी पर भारी नवाज़ ?

कूटनीति के राउंड टू में मोदी पर भारी नवाज़ ?

उरी हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में भारत के आक्रामक तेवर, सधे अंदाज़ और सार्क सम्मेलन के रद्द होने से जो संदेश गया, वो भारत के लिए बहुत उत्साहजनक था। उरी हमले के बाद भारत के डिप्लोमैटिक ऑफेन्सिव में जान थी, और इसका बहुत सा श्रेय निजी तौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जाता […]

Continue reading
कभी-कभी जंग जरूरी – पीएम मोदी

कभी-कभी जंग जरूरी – पीएम मोदी

जय श्री राम, विशाल संख्या में पधारे प्यारे भाईयों और बहनों, आप सबको विजयादशमी की अनेक-अनेक शुभकामनाएं। मुझे आज अति प्राचीन रामलीला, उस समारोह में सम्मिलित होने का सौभाग्‍य मिला है। हिन्‍दुस्‍तान की धरती का ये वो भू-भाग है, जिस भू-भाग ने दो ऐसे तीर्थरूप जीवन हमें दिए हैं- एक प्रभु राम और दूसरे श्री […]

Continue reading
सरहद गर्म, सियासत गर्म !

सरहद गर्म, सियासत गर्म !

भारत-पाक सरहद और गरम हो गई है। बारामुला और सीमा पर दोनों पक्षों में भीषण गोलाबारी की घटनाएं इसी तरफ इशारा करती हैं। सर्जिकल स्ट्राइक का मकसद पाक को सबक सिखाना था। लेकिन उसने सबक से ज्यादा सवाल खड़े कर दिए हैं। मसलन वह स्ट्राइक सर्जिकल थी या फिर कुछ और? यह मामला भारत और […]

Continue reading
‘सर्जिकल स्ट्राइक’ और युद्धोन्माद

‘सर्जिकल स्ट्राइक’ और युद्धोन्माद

कुछ लोगों के लिए युद्ध एक धंधा है। इसलिए युद्धोन्माद उनकी जरूरत है। ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ के बाद भावनाएं वैसे भी उबाल पर हैं। राष्ट्रवाद की आड़ में चलने वाले इस खेल में ढेर सारी चीजों का वारा न्यारा हो रहा है। लेकिन उसकी न तो हमें खबर है। न ही हम जरूरत समझते हैं । […]

Continue reading
रहस्य, प्राचीनता की चादर ओढ़े मां उग्रतारा नगर मंदिर

रहस्य, प्राचीनता की चादर ओढ़े मां उग्रतारा नगर मंदिर

मां उग्रतारा नगर मंदिर हमेशा से हमारी आस्था के केंद्र में रही हैं. वैसे बारहों मास वो हमारे स्मरण में होती हैं लेकिन नवरात्र में मानो वो हमारे दिलों में वास करने लगती हो. बचपन से ही हम सभी भाई-बहनों में इस मंदिर को लेकर अद्भुत एहसास और जिज्ञासा का भाव रहा है, यह एहसास […]

Continue reading