feelfromsoul

टूटता घर

टूटता घर

एक जमीन का खली टुकड़ा, यूँ तो है उसका आसमां खुला-खुला, कुछ घास है खड़ी-खड़ी, कुछ मुरझाये से दिखतें हैं, एक सवेरे सारे खड़े-मुरझाये घास बिखरे-बिखरे से दीखते हैं. कुछ लोग वहां पे खड़े और शोर करते दीखते हैं, शायद वहां एक सपनों का घर बनाने जा रहा है, किसी ने बड़े अरमानों से अपने […]

Continue reading
टूटता पत्ता

टूटता पत्ता

हमने भी सूखे पत्ते को पेड़ की साख से टूटते हुए देखा है, वो भी कभी हरा भरा सा दिखता था, उसको भी ये गुमान हो चला था, वो तो सदा ही टहनियों पे लहराता और ईथलता रहेगा, पर पाता नहीं उसे ये गुमान क्यूँ हो चला था, जो उसका था ही नहीं कभी उसे […]

Continue reading
रंग बिरंगी

रंग बिरंगी

काले सफेद से भरी दुनिया अजीबो ग़रीब से भरी दुनिया हर रंग सतरंगी दिखाई देता पड़ता है हर रंग बेजान सा दिखता है रंगबिरंगी इस दुनिया में हर चेहरा सतरंगी दिखता है इन सतरंगी चेहरों के पीछे एक कला धब्बा दिखाई देता है सभी सतरंगी चेहरों के दिल एक रंगी दिखाई देता है मौसम बदलने […]

Continue reading
मेरी लाडली

मेरी लाडली

एक सुबह जब एक नन्हीं आहट सी हुई, ये आहट पता नहीं कहाँ से हुई, अचानक माँ ने कहा आहट मेरे अंदर हुई, वो हिलोरे लेती है और अटकेलियाँ मचती है. वो कहती है माँ, तुमको माँ काब बुलाऊंगीं, कब आपके गोद में आप मुझे सुलाऊगी, माँ आज मैं आप के सहारे दुनियाँ को देखती […]

Continue reading
अहसास

अहसास

यूँ बोध होता है हर इंसान किसी ना किसी आहास से बँधा हुआ है, एक नवजात सिसु अपनी माता से, ये वो अहसास है जिसे वो सबसे प्रथम महसूस करता है, उसके उपरांत वो अपने पिता के अहसास से उसका बोध होता है, फिर वो काई नये और अजनमे रिश्तों को महसूस करता है, ताब […]

Continue reading
मिलाप

मिलाप

मिलाप ज़मीन ना जाने क्यूँ खिसकती जाती है आसमा की ओर, ना जाने क्यूँ आनकही और अनोखी चाहत रखती है, यूँ कुछ लोगों को देखा है चाहत वो रखतें हैं आसमान को चुने की मगर उन्हें ज़मीन भी छूने नहीः आती, कोशसिश वो करतें हैं मिलाप हो मगर वो ये समझ ही नहीं पाते मिलाप हो […]

Continue reading
Abhilasha

Abhilasha

Jindage yun hee gujar rahee hai kisee anjaan se padchihon pe, Dil main ek abhilasha hai ki kisee deen majil ko paoonga. Ek chatpatahat hai dil ke kisee kone main kab manjil mujhe dikahyee degee, aur kab manjil ko dekhoonga, Yun to assan hai naheen dagar jindagee e safar ka magar ek ankhee abhilasha hai […]

Continue reading