Nikhil Dadhich

मैं हिन्दू हो गया 

मैं हिन्दू हो गया 

​भारत का नौजवान सयाना हो गया  कोई पंडित तो कोई ठाकुर हो गया सबको अपनी जात पे गुमान हो गया  कोई दलित तो कोई बनिया हो गया मेरा मान हिन्द था, हिन्द रह गया  मैं ठहरा गंवार,मैं “हिन्दू” ही रह गया

Continue reading
तुम्हें याद तो आता होगा

तुम्हें याद तो आता होगा

​उन शहीदों की याद में चंद लाइनें जो देश पर कुर्बान हो गए : जगमगाती रोशनी में आज तुम जो रोशन हो किसी ने इसकी खातिर कुर्बानियों के दीप जलाये होंगे।। मनाते हो तुम हर रोज खुशियों की जो दीवाली, उसे संजोने वाला तुम्हे याद तो आता होगा । याद आती होगी किसी अबला की […]

Continue reading
गुजरात विरोधी कोंग्रेस

गुजरात विरोधी कोंग्रेस

હું કોઈ પણ જાતિ નો છુ પણ સહુપ્રથમ હું એક ગુજરાતી છુ ગુજરાત મ્હારા લોહી મા બસે છે મને મ્હારા ગુજરાત ના પ્રત્યે અત્યન્ત લાગણી ને સમ્માન છે મ્હારા ગુજરાત નો ડંકો આજે આખી દુનિયા મા વાગે છે એ મ્હારા માટે ગર્વ ની વાત છે પણ છેલ્લા કેટલાક દાયકા થી કૉંગ્રેસે મ્હારા ગુજરાત ને બદનામ […]

Continue reading
कितनों ने सम्मान लौटाया ?

कितनों ने सम्मान लौटाया ?

याद करो नौखाली जब कितने हिन्दू सर काटे थे। हिन्दू अस्मत नीलाम हुई,क्यूँ बोल ना मुंह से फूटे थे। गांधी नेहरू से ठेकेदार भी जब मांद में छुपकर बैठे थे। तब कितनों ने आवाज उठाई ? कितनो ने सम्मान लौटाया ? जब इंदिरा ने आपात लगाया तब क्यूँ देश नजर ना आया? सिसक रहा था […]

Continue reading
ठोक दो पाकिस्तान को  ( #ठोक_दो_पाकिस्तान_को )

ठोक दो पाकिस्तान को ( #ठोक_दो_पाकिस्तान_को )

सह नहीं सकते अब हम हरकत_ए_नापाक को । देख नहीं सकते मरता हम भारत के सम्मान को । नाम मिटा देंगे नक्शे से,जो मोदी जी सेना से कह दे ठोक दो पाकिस्तान को।। जितने शहीद हुए है अब तक सबको इंसाफ दिलाने को । सौरभ कालिया, हेमराज के सर का हिसाब चुकाने को। मोदी जी […]

Continue reading
#Justice4SadhviPragya

#Justice4SadhviPragya

साध्वी प्रज्ञा जी की चिठ्ठी.. जो उन्हों ने जेल से लिखी.. जरुर पढ़े.. साध्वी प्रज्ञा जी की मार्मिक दशा : एक साध्वी को हिन्दू होने की सजा और कितनी देर तक|| साध्वी प्रज्ञा की सचाई अवश्य पढ़े | मैं साध्वी प्रज्ञा चंद्रपाल सिंह ठाकुर, उम्र-38 साल, पेशा-कुछ नहीं, 7 गंगा सागर …अपार्टमेन्ट, कटोदरा, सूरत,गुजरात राज्य […]

Continue reading
AIMIM (आल इंडिया मजलिसें इत्तेहादुल मुसलमीन) और औवेसी भाईयों का सच

AIMIM (आल इंडिया मजलिसें इत्तेहादुल मुसलमीन) और औवेसी भाईयों का सच

AIMIM (आल इंडिया मजलिसें इत्तेहादुल मुसलमीन) पार्टी हैदराबाद रियासत के दिनों की है. इसकी स्थापना हैदराबाद के गद्दार निजाम नवाब मीर उस्मान अली खान की सलाह से निजाम समर्थक पार्टी के रूप मे  1927 में ULMA -E-Mashaeqeen की उपस्थिति में हैदराबाद राज्य के  महमूद नवाज खान किलेदार  द्वारा हुई थी और तब  यह  केवल मजलिस […]

Continue reading
दूश्मन खुदा

दूश्मन खुदा

थक कर बैठता हुँ जब भी सुस्ताने को जिन्दगी की इन काली अँधेरी रातो मे हर बार गम का सूरज निकल आता है हमसफर की तलाश में जूड़ता हुँ जब भी किसी कारवाँ में कमबख्त हर बार मेरा रास्ता बदल जाता है कितना बदनसीब हुँ मै कि तलाश मे खुशियों कि जब भी निकलता हुँ […]

Continue reading
तेेरे आने के पहले

तेेरे आने के पहले

तेरे आने के पहले बदमजा बेमकसद सा जीऐ जा रहा था ना गम की राते थी ना खुशियों के दिन,  तु नजर आयी तो जिन्दगी मे एक हल्का सा एक रंग आ गया, खुशियों और गमो की परवाह नहीं मुझको मगर तुझे पाना जिन्दगी का मकसद बन गया निखिल दाधीच

Continue reading
जन्मदिन

जन्मदिन

जन्मदिन के अवसर पर  माँ  तेरा आशीष चाहिए ना धन ना दौलत ना मान चाहिए नतमस्तक रहुं तेरे चरणो मे बस यही वरदान चाहिये पाप धोने को काशी मथूरा और प्रयाग “जन जन ” के पावन धाम है किन्तु हे माँ मुझे ना काशी ना मथूरा ना प्रयाग चाहिये मेरी आत्मशुद्धि और मुक्ति को बस […]

Continue reading
वफा

वफा

हम उनसे वफा करते रहे वो हमें रूसवा करते रहे हम उनसे प्यार करते रहे वो हमसे खेलते रहे हम हाथों से उनके जाम समझ कर पीते रहे वो घूंट जहर के  पिलाते रहे हम उनके लिये तड़फते रहे वो हमे तड़फाते रहे हम उनके लिये दुनिया अपनी उजाड़ते रहे वो गैरो की दुनिया बसाते […]

Continue reading
आँसू

आँसू

मेेेरी मौत पर आँसू ना बहाना मेरी जान तेरी आँख मे आँसू नहीं देख पाऊंगा  डर है तेरी आँख मे मेरे लिये दर्द  देख कर मै फिर जिन्दा हो जाऊँगा

Continue reading
वादा

वादा

मुझसे अब कोई नयी उम्मीद ना रखना मै कोई नया वादा निभा ना पाऊंगा हाँ एक वादा मेरी मौत का तु जब चाहे ले ले जब भी तु चाहेगी हंस कर दुनिया से चला जाऊंगा

Continue reading
Eid

Eid

जब किसी बेजुबान की गरदन पर छूरी चलती है करूण रूदन भरी मरणान्तक चीख निकलती है ऐसे मे कैसे कह दुं कि ईद भी हैप्पी होती है श्वेत रंग होता है अमन का लेकिन जहाँ खुन भरी होली खेलकर खुशियाँ मनाई जाती है कुर्बानी के छद्म नाम पर जानवरों की गरदने उड़ाई जाती है ऐसे […]

Continue reading
पद्मा लक्ष्मी बन जा बहना 

पद्मा लक्ष्मी बन जा बहना 

मेरी बहादूर बहनो के लिये जिनको राष्ट्र प्यारा है :- मत बहाओ अश्रु की धार अभी करना है अरि संहार अभी जो है गौ भक्षक और रिपु है दीन धर्म के उनके मर्दन का ध्यान करो युं व्यर्थ बहाकर अश्रु तुम, मत शत्रु पर उपकार करो बनकर रणचंडी बहना तुम अरिमूंड हरो युं व्यर्थ बहाकर […]

Continue reading
गोधरा

गोधरा

दोगली मिडीया और छद्म सेकुलरी कुत्ते गोधरा पर रोज भोंकते रहते है उनके लिये कुछ शब्द कहना चाहता हुँ: साबरमती की आग उनके लिये आम हो गयी !!!! मगर गोधरा के नाम पे गुजरात की हर गली बदनाम हो गयी !!!!! साबरमती मे जो जले उनके नाम तक भी खाक हो गये !!!! पर गोधरा […]

Continue reading