शायरीयों का समंदर

चाहते थे जिसको हम उसके दिल बद्ल गए, समुंदर तो वोही था लकिन साहिल बदल गए. कत्ल ऐसा हुवा हर बार किस्तों में मेरा, कभी खंजर बदल गए तो कभी कातिल बदल गए.

Continue reading

सब को अपना बनाने का हुनर हे तुम में काश किसी का बनने का हुनर भी होता

Continue reading

मुहब्बत ऐसा नगमा है ज़रा भी झोल हो लय में तो सुर कायम नहीं होता मुहब्बत ऐसा शोला है हवा जैसी भी चलती हो कभी मद्धम नहीं होता मुहब्बत ऐसा रिश्ता है के जिसमे बंधने वालों के दिलों में गम नहीं होता मुहब्बत ऐसा पौधा है जो तब भी सब्ज़ रहता है के जब मौसम […]

Continue reading

जाने किस लिए आँखों में आ गए आंसू सिखा रहा था बच्चों को मुहब्बत केसे लिखते हैं

Continue reading

‘ज़रूरत’ दिन निकलते ही निकल पड़ती है ‘डयूटी’ पर , ‘बदन’ हर शाम कहता है कि अब ‘हड़ताल’ हो जाए….

Continue reading

तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है. पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..!!♥

Continue reading

तेरी सिर्फ एक निगाह ने खरीद लिया हमें. बड़ा गुमान था हमें की हम बिकते नहीं

Continue reading

तकदीर ने यह कहकर, बङी तसल्ली दी है मुझे, कि वो लोग तेरे काबिल ही नहीं थे जिन्हें मैंने दूर किया है….

Continue reading

हवा सी बहक गयी है जिंदगी। फूलों सी महक गयी है जिंदगी। जब से तुम जिंदगी में आई हो।। मुझ पर खुशियों की बारिश हो गयी। पूरी मेरी हर एक ख्वाहिश हो गयी। जब से तुम जिंदगी में आई हो।। इंद्रधनुष के रंगों सी रंगीन हो गयी जिंदगी। बहार ऐ मौसम सी हसीन हो गयी […]

Continue reading

यूँ तो सिखाने को ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है…!! मगर—— झूठी हंसी हँसने का हुनर तो बस मोहब्बत ही सिखाती है…!!

Continue reading

अगर सफर का मजा लेना हो तो हाथ में सामान कम रखो । और जिंदगी का मजा लेना हो तो दिल में अरमान कम रखो।।

Continue reading

ऐसा नहीं.. कि दिल में तस्वीर नहीं थी पर हाथों में तेरे नाम की लकीर नहीं थी

Continue reading

इज़हारे मुहब्बत पे अजब हाल है उनका आँखें तो रज़ामंद हैं ,लब सोच रहे हैं |

Continue reading

बना लो उसे अपना जो दिल से तुम्हे चाहता है। खुदा की कसम ये चाहने वाले बडी मुश्किल से मिलते है..

Continue reading

किसी को भूल जाना हमारी फ़ितरत नहीं किसी का दिल दुखाना हमारी आदत नहीं कोई चाहे या न चाहे ये उसकी मर्जी, दिल दे के मुकर जाना हमारी आदत नही..

Continue reading

कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया करो ताल्लुक़ हमसे अब ख़्वाबों की मुलाक़ातों से तसल्ली नहीं होती !!*!!

Continue reading

अजीब दस्तूर है, मोहब्बत का, रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है

Continue reading

मेरे जीने के लिये तेरा अरमान ही काफी है, दिल के क़लम से लिखी ये दास्तान ही काफी है, तीर-ए-तलवार की तुझे क्या ज़रूरते ए नज़नीन, क़त्ल करने के लिय तेरी मुस्कान काफी है

Continue reading

ऐ सनम! अपने दिल में मेरी तस्वीर देखना, मेरे हाथों की लकीरों में अपनी तकदीर देखना। अगर तुम्हें देखनी है अपनी मोहब्बत, तो मुझ में राँझा और खुद में हीर देखना।।

Continue reading

ऐ सनम! तेरी जुदाई का गम मुझे सोने नहीं देता, आँखों में बसा तेरा चेहरा मुझे रोने नहीं देता। सोचूं तो सोचूं कैसे और किसी से दिल लगाने की, दिल में बसा तेरा प्यार मुझे किसी और का होने नहीं देता।।

Continue reading